ॐ…ॐ…ॐ…

श्री करुणानिधये नमः
हे परमपिता ! हे विश्वपिता !!
हे राष्ट्रपिता ! हे जगदाधार् !!
हे करुणामय ! दीन दयालु !
पूर्ण गुरू ! हे अपरंपार् !!

हे परेष, अब शीघ्र कृपा कर​,
हमे दीजिये शुद्ध विचार​,
जिससे जनता के सेवक बन​,
नाथ, करें सुखमय संसार !!

हे नाथ, आप की कृपा से,
विश्व का कल्याण हों !
सभी कर्तव्य परायण हों !!
परस्पर प्रेम हों !!!

हे करुणानिधये नमः !



Go to the Home Page


ॐ…ॐ…ॐ…

ॐ असतो मा सद्गमय !
तमसो मा ज्योतिर्गमय !
मृत्योर्मा अमृतं गमय !!

ॐ सर्वेषां स्वस्तिर् भवतु !
सर्वेषां शान्तिर्भवतु !
सर्वेषाम् पूर्णं भवतु !
सर्वेषां मङ्गलं भवतु !
लोकाः समस्ता: सुखिनो भवन्तु !!

ॐ त्र्यम्बकम् यजामहे !
सुगन्धिम् पुष्टिवर्धनम् !
उर्वारुकमिव बन्धनात् !
मृत्योर्मुक्षीय मामृतात् !!
ॐ शान्ति ! शान्ति ! शान्तिः !!
……………
ॐ सहना ववतु !
सहनौ भुनक्तु !
सह वीर्यं करवावहै !
तेजस्वि नावधीतमस्तु !
मा विद्विषावहै !!
ॐ शान्ति ! शान्ति ! शान्तिः !!
……………
हरि ॐ ! हरि ॐ !
हरि ॐ तत सत