शंख प्रक्षालन (Hindi Milap)

ध्यान देने की बातें

उपर्युक्त 4 आसन एक ग्रुप के हैं। एक-एक ग्रुप के पहले एक-एक गिलास के हिसाब से नमकीन पानी पीते रहें। 5 या 6 बार यह क्रिया करने के बाद शुद्धि शुरू होती है। कड़ा मल पदार्थ बाहर निकलने लगता है| यह क्रिया जारी रखते-रखते 4-5 बार मल विसर्जन हो जाता है | व्यर्थ मल पदार्थ नमकीन पानी के साथ बाहर निकल जाता है|

Source: http://www.webmilap.com/PUBLICATIONS/DAILYHINDIMILAP/DAILYHINDI/2018/03/25/ArticleHtmls/25032018023004.shtml?Mode=1

This entry was posted in . Bookmark the permalink.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *